आप अपने क्षेत्र की हलचल को चित्रों और विजुअल समेत नेटप्रेस पर छपवा सकते हैं I सम्पर्क कीजिये सेल नम्बर 0 94165 57786 पर I ई-मेल akbar.khan.rana@gmail.com दि नेटप्रेस डॉट कॉम आपका अपना मंच है, इसे और बेहतर बनाने के लिए Cell.No.09416557786 तथा E-Mail: akbar.khan.rana@gmail.com पर आपके सुझाव, आलेख और काव्य आदि सादर आमंत्रित हैं I

25.5.09

गरीबों हेतु राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना शुरू.

सरकार ने गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले परिवारों के लिये राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना शुरु की है.अगर यह योजना सही रूप से क्रियान्वित हो जाती है तो गरीब परिवारों को बीमारी की स्थिति मे बहुत फायदा पहुँच सकता है. केंद्र की इस योजना को लागू करने के लिये हरियाणा सरकार ने राज्य के हर गाँव व कस्बे में पीले व गुलाबी राशन कार्ड धारको के परिवारों के समार्ट कार्ड बनाने का काम शुरु कर दिया है. सरकार ने पीले व गुलाबी राशन कार्ड धारक परिवारों के मुफ्त इलाज के लिये परदेस के सरकारी व गैर सरकारी १५१ अस्पतालों को इस योजना में शामिल किया है. समार्ट कार्ड धारक व्यक्ति को करना सिर्फ इतना है कि नेटवर्क में शामिल १५१ अस्पतालों में से किसी एक मे अपना समार्ट कार्ड दिखाना है तथा अपना इलाज मुफ्त मे करवाना है. समार्ट कार्ड धारक व्यक्ति को हॉस्पिटल मे जाकर तीस हजार तक के अपने इलाज के लिये कोई भुगतान नहीं करना होगा. चाहे उसकी शल्य चिकित्सा भी क्यों न हो रही हो. अगर इलाज मे खर्च तीस हजार से ऊपर हो जाता है तो समार्ट कार्ड धारक व्यक्ति को बची राशि का भुगतान खुद ही करना होगा. इस योजना मे और तो और व्यक्ति को इलाज के लिये आने-जाने के लिये १०० रूपए अतिरिक्त यात्रा भत्ता भी सरकार द्वारा ही दिया जाएगा. व्यक्ति का नेटवर्क में मोजूद अस्पतालों में भर्ती होने से एक दिन पहले और अस्पताल से छुट्टी के पॉँच दिनों तक के खर्च का भुगतान भी योजना का हिस्सा है. वहीँ जन्मजात, बाहरी बीमारियों, नशीली दवाओं के सेवन से पैदा हुई बीमारियों, टीकाकरण, आत्महत्या के प्रयास से उत्पन्न समस्या तथा युद्ध के मामले में समार्ट कार्ड धारक को इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा। सरकार द्वारा पीले व गुलाबी राशन कार्ड धारको के परिवारों के चिप लगा एक समार्ट कार्ड दिया जाएगा. जिसमे पूरे परिवार की जानकारी रिकार्ड होगी. कार्ड में ही पालिसी कवर का विवरण भी होगा. इस योजना का लाभ उठाने के लिये परिवार के किसी भी मेंबर को बीमारी की स्थिति में स्मार्ट कार्ड को अपने साथ नेटवर्क के हॉस्पिटल में ले जाना पडेगा. बिना समार्ट कार्ड के हॉस्पिटल मरीज की कोई मदद नहीं कर पाएगा. कार्ड के खो जाने या ख़राब हो जाने तथा उसमे परिवार के मेम्बरों के नाम जोड़ने या हटाने की स्थिति मे १०० रूपए का शुल्क जमा करवाना होगा. सरकार ने लोगो को इस योजना मे कॉल सेण्टर की सुविधा भी दी है. टोल फ्री नंबर १८००२०९८८८८ पर फ़ोन करके किसी भी समय कोई भी जानकारी ली जा सकती है. इन दिनों पूरे हरियाणा मे पीले व गुलाबी राशन कार्ड धारको के समार्ट कार्ड बनाने का काम जोरों से चल रहा है. लोग भी इन समार्ट कार्ड बनवाकर बेहद खुश है. अब देखना यह है की सरकार की यह योजना कितनी कारगर सिद्ध हो पाती है.

4 टिप्पणियाँ:

जैसा विवरण आपने लिखा , उसको पढ़ कर योजना बहुत अच्छी लगी. अगर इस में धान्दले - बाजी को सरकार चेक कर पाए तो कारगर साबित हो सकती है. स्वास्थ्य एक मूल अधिकार है तथा सामाजिक न्याय का एक माध्यम भी.

This blog is so nice to me. I will continue to come here again and again. Visit my link as well.
Good luck

एक टिप्पणी भेजें